Home / Disease / भूलने की बीमारी से छुटकारा | याददाश्त बढ़ाने के घरेलु उपाय

भूलने की बीमारी से छुटकारा | याददाश्त बढ़ाने के घरेलु उपाय

अल्जाइमर Alzheimer’s

भूलने की बीमारी को अल्जाइमर कहते है। अल्जाइमर डिमेंशिया प्रौढ़ावस्था और वृद्धावस्था में होने वाला एक ऐसा रोग है, जिसमें मरीज की स्मरण शक्ति कमजोर होती जाती है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है, वैसे-वैसे यह रोग भी बढ़ता जाता है। याददाश्त क्षीण होने के अलावा रोगी की सोच-समझ, भाषा और व्यवहार पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।
डाक्टरों के मुताबिक याददाश्त कम होना या फिर याददाश्त खो जाना दो अलग बाते हैं, बुजुर्गो में यह समस्या 60 के बाद होती है, जिसे डिमेंशिया कहा जाता है। युवाओं में याददाश्त कम होने की वजहें अलग हैं, जैसे- अधिक तनाव, सिगरेट, एल्कोहल या फिर अनियमित नींद। मार्ग दुर्घटना या फिर मस्तिष्क में टय़ूमर की वजह से भी याददाश्त खो जाती है, लेकिन इन दो वजहों से याददाश्त खोने के कई सजिर्कल उपाय हैं। यदि अनियमित दिनचर्या से याद रखने की क्षमता कम होती है तो उसे मेडिटेशन, योग या फिर बेहतर डायट से ठीक किया जा सकता है। हालांकि याददाश्त बढ़ाने के लिए चिकित्सक दवाओं के इस्तेमाल को सही नहीं मानते हैं। आइये बताते है याददाश्त बढ़ाने और भूलने की बीमारी से छुटकारा पाने की लिए बेहतरीन घरेलू उपाय:-

yaaddast-kaise-badhaye
www.grihshobha.in

भूलने की बीमारी से छुटकारा | याददाश्त बढ़ाने के घरेलु उपाय

  • सेब भूलने की बीमारी में बहुत ही कारगर दवा के रूप में जानी जाती है। इसमें मौजूद विटामिन, फॉस्फोरस, पोटैशियम आदि होते है , जो ग्लूटामिक एसिड को बढ़ाने में मदद करता है ये एसिड हमारे मस्तिष्क में मौजूद कोशिकाओं को नियंत्रित करते है।
  • दो चम्मच शहद, एक गिलास दूध को सेब के साथ सेवन करने से हमारे मस्तिष्क के याददाश्त को बढ़ाता है।
  • भूलने की बीमारी को दूर करने के लिए पांच ग्राम जीरे को दो चम्मच शहद के साथ लेने से ये बीमारी दूर होती है।
  • काली मिर्च को पीसकर दो चम्मच शहद में मिलाकर खाने से याददाश्त में बढ़ोतरी होती है।
  • पांच ग्राम कलौंजी को पीसकर दो चम्मच शहद के साथ लेने से भूलने की बीमारी से छुटकारा प्राप्त होता है।
  • सोंठ, कुंदरू का गुदा और नागर मोथा तीनो को 30-30 ग्राम सामान मात्रा में लेकर पीस कर चूर्ण बना ले इसको प्रतिदिन एक चम्मच एक गिलास पानी के साथ फाकने से भूलने की बीमारी ठीक होती है और याददाश्त बढ़ाती है।
  • नींद आपकी यादों को मजबूत करने में आपकी मदद करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वयस्कों को एक दिन में सात से नौ घंटे नींद की ज़रूरत होती है।
  • पर्याप्त मात्रा में आहार लेने से जैसे साग-सब्जियाँ, फल आदि से भूलने की बीमारी कम होती है।
  • पालक की सब्जी या जूस पीने से भी आपकी कि याददाश्त को अच्छा रखा जा सकता है। इसमें मौजूद ल्यूटिन होता है जो आपके याद रखने की क्षमता को और बेहतर करता है।
  • चॉकलेट के अलावा सूखे मेवे जैसे काजू, बादाम और अखरोट याददाश्त को मजबूत करते हैं और दिमाग की कार्यप्रणाली को सुचारु रुप से चलाते हैं।
  • धूम्रपान करने और शराब का सेवन करने से बचे।
  • शारीरिक और मानसिक तनाव से दूर रहे।
  • नियमित कम से कम तीस मिनट्स तक योग करने से मस्तिष्क में रक्त संचार सुचारु ढंग से रहता है, जिससे याददाश्त बढ़ाने में कारगर है।

और भी पढ़े

योगासन के लाभ और नियम
योगासन के प्रकार और विधि

About Ram Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *