Ayurvedic Herbs

Jaifal ke fayde aur nuksan | जायफल के फायदे और नुकसान

Jaifal जायफल

इसे अन्य भाषाओं में जातिफल, जाति, जातिशा, सगा, कोषा, कोषक, मधुशोंडा, मालतीफला, राजभोग्या, सुमनफल, शालुका, जजिकाया, जादिफ़ाल, परिभम जोजबोय, Jaifal आदि नामो से जाना जाता है। ये मलाया प्रायद्वीप, जावा, सुमात्रा आदि में पाया जाता है। इसके वृक्ष बड़े और इसकी शाखाएं नाजुक होती है। इसका फल लंबगोल होता है। इसकी छाल के भीतर एक लाल गुच्छा होता है, जिसको जायपत्री कहते है।

jaifal-ke-fayde
image source google

जायफल के फायदे Jaifal ke fayde

भूख बढ़ाना

Jaifal सुगन्धित, दीपक, वायुनाशक, उत्तेजक, पौष्टिक और वाजीकरण होता है। यह आमाशय को उत्तेजना देकर आमाशय में पाचक रस को बढ़ाता है जिससे पाचनक्रिया में सुधार होता है और भूख बढ़ाती है। जब ये आंतो में जाता है तब वायु को गुदा द्वार से ख़ारिज करता है।

मुंह के छाले

ताजे जायफल के रस को पानी में मिलाकर नित्य सुबह शाम कुल्ला करने से मुंह के छाले मिट जाते है।

हैजा

ठन्डे पानी में जायफल को घिसकर पिलाने से हैजे के रोगी की प्यास मिट जाती है और उसे आराम मिलता है।

अतिसार

बड़े जायफल को एक छोटा छेद करके उसमे अफीम भरकर उस छेड़ को बुरादे से बंद कर उस पर गीला आटा लपेट कर भूभल में दाब देना चाहिए। उसके पश्चात् उसका आटा हटा कर उसे पीसकर गोलियां बना ले। उन गोलियों को 2 से 3 ग्राम तक की मात्रा में देने से अतिसार मिटता है।

loading...

जी मिचलाना

जातिफल को ठन्डे पानी में घिसकर पिलाने से जी मिचलाना बंद हो जाता है।

मंदाग्नि

Jaifal चूर्ण को शहद के साथ देने से रोगी की पाचन शक्ति मंद पड़ जाना, भूख कम लगना और खाई हुई चीज जल्दी हजम नहीं होने की सब समस्याओं को दूर करता है।

अनिद्रा

एक गिलास दूध में आधे चम्मच Jaifal का चूर्ण डालकर पीते है तो ये मन को शांत करके अच्छी नींद लाती है। ये चिंता, अवसाद और तनाव को दूर करने में बहुत लाभदायक है।

दांत के दर्द

आजकल दांत में कीड़े लग जाना या दांत में दर्द होना आम बात है इसमें जायफल के तेल दांत के दर्द में बहुत लाभदायक होता है। बहुत से टूथपेस्ट में जायफल और दालचीनी मिलाकर आते है।

आँखों के रौशनी

जातिशा को शुद्ध पानी घिसकर लेप बना ले इसको आँखों के चारो तरफ लगाने से आप के आँखों के रौशनी में बढ़ोत्तरी होती है।

सर्दी खांसी

एक साल से बड़े बच्चो के लिए जायफल उपयोग किया जा सकता है। सर्दी खांसी में जायफल को घिस कर शहद में या माँ के दूध में मिलाकर पिलाने से बहुत फायदा होता है।

जायफल से नुकसान Jaifal ke nuksan

  • जायफल की ज्यादा मात्रा में सेवन करना हानिकारक होता है। इससे घबराहट, चक्कर आना, जी मिचलाना या उलटी हो सकता है।
  • गर्भवस्था में जायफल का सेवन नहीं करना चाहिए इससे पेट ने पल रहे बच्चे को नुक्सान हो सकता है।

मात्रा:- जायफल Jaifal  के तेल को 2 से 3 बूँद और इसके चूर्ण को आधे से एक ग्राम तक ले सकते है।

loading...
Tags

Related Articles

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker