Home / Health / पपीता खाने के ये है फायदे जो आप को हैरत में डाल देंगे!

पपीता खाने के ये है फायदे जो आप को हैरत में डाल देंगे!

पपीता PAPAYA एक ऐसा फल है जो लगभग पेट सम्बंधित सभी बिमारियों को एक साथ ख़त्म करता है। पपीता एक स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक फल है पपीते के फल के साथ ही इसके पेड़ में भी कई औषधीय गुण पाए जाते है। हालांकि यह फल बच्चों को कम ही पसंद है, परन्तु यह कई रोगों को एक साथ दूर करता है। पपीते में विटामिन सी, विटामिन ई और बीटा कैरोटीन जैसे एंटी-ऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। जिससे व्यक्ति का यौवन लंबे समय तक बना रहता है। तो आइये जानते है पपीते कुछ बेहतरीन फायदे:-

papita-khane-ke-fayde
image source googel

पपीता PAPAYA खाने के फायदे

अस्थमा की रोकथाम

अस्थमा होने का जोखिम उन लोगों में कम होता है जो कुछ पोषक तत्वों की अधिक मात्रा का सेवन करते हैं। इन पोषक तत्वों में से एक बीटा-कैरोटीन है। ये पपीता, खुबानी, ब्रोकोली, कैंटालूप, कद्दू और गाजर जैसे खाद्य पदार्थों में निहित है।

कैंसर

पपीते में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट बीटा-कैरोटीन का सेवन करने से कैंसर का खतरा कम हो सकता है। युवा पुरुषों में, बीटा-कैरोटीन से भरपूर आहार कैंसर से रक्षा करता है। पपीता प्रोस्टेट कैंसर के खिलाफ एक सुरक्षात्मक भूमिका निभा सकते हैं।

हड्डी का स्वास्थ्य

विटामिन K के कम सेवन करने से हड्डियों के टूट जाने का खतरा ज्यादा होता हैं। अच्छे स्वास्थ्य के लिए पर्याप्त विटामिन K का सेवन महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह कैल्शियम के अवशोषण में सुधार करता है और कैल्शियम के मूत्र उत्सर्जन को कम कर सकता है, जिसका अर्थ है कि हड्डियों को मजबूत और पुनर्निर्माण करने के लिए शरीर में अधिक कैल्शियम होता है।

मधुमेह या डायबिटीज

टाइप 1 मधुमेह वाले लोग जो उच्च फाइबर आहार का सेवन करते हैं, उनमें रक्त शर्करा का स्तर कम होता है, और टाइप 2 मधुमेह डायबिटीज वाले लोगों में रक्त शर्करा, लिपिड और इंसुलिन के स्तर में सुधार हो सकता है। एक छोटा पपीता लगभग 3 ग्राम फाइबर प्रदान करता है, जो सिर्फ 17 ग्राम कार्बोहाइड्रेट के बराबर है।

पाचन तंत्र

पपीते में पपाइन नामक एक एंजाइम होता है जो पाचन में सहायता करता है। पपीता में फाइबर और पानी की मात्रा भी अधिक होती है, दोनों कब्ज को रोकने और नियमितता और एक स्वस्थ पाचन तंत्र को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।

दिल की बीमारी

पपीते में मौजूद फाइबर, पोटैशियम और विटामिन की मात्रा दिल की बीमारी को दूर करने में मदद करती है। इसके सेवन से सोडियम और पोटाशियम की कमी में वृद्धि सबसे महत्वपूर्ण आहार परिवर्तन है जो व्यक्ति के हृदय रोग के खतरे को कम कर सकता है।

सूजन

कोलीन पपीते में पाया जाने वाला एक बहुत ही महत्वपूर्ण और बहुमुखी पोषक तत्व है जो हमारे शरीर को नींद, मांसपेशियों की गतिविधि, सीखने और याददाश्त में सहायता करता है। इसके सेवन करने से पुरानी सूजन में राहत मिलती है।

त्वचा और चिकित्सा

किसी भी तरह का घाव हो या जल गए हो उस पर मसले हुए पपीते को रखे इससे घाव जल्द ही भरने लगेगा और जले स्थान पर रखने से जलन समाप्त करके घाव जल्द ही भर जायेगा।

बालों का स्वास्थ्य

पपीता बालों के लिए भी बहुत अच्छा है क्योंकि इसमें विटामिन ए सीबम उत्पादन के लिए आवश्यक पोषक तत्व होता है, जो बालों को मॉइस्चराइज रखता है। त्वचा और बालों सहित सभी शारीरिक ऊतकों की वृद्धि के लिए विटामिन ए बहुत आवश्यक है। विटामिन सी का पर्याप्त सेवन, जो पपीता प्रदान कर सकता है, कोलेजन के निर्माण और रखरखाव के लिए आवश्यक है, जो त्वचा को संरचना प्रदान करता है।

दाद, खाज और खुजली

पुराना दाद, खुजली या खाज कुछ भी हो कच्चे पपीते का दूध और बराबर मात्रा में सुहागा को उबलते पानी में डालकर ठंडा कर ले। इसे लगाने से काफी आराम पहुँचता है।

पेट के कीड़े

पपीते के बीज को पानी में पीसकर कुछ दिन तक सेवन करने पेट के कीड़े समाप्त हो जाते है।

बवासीर

बवासीर में पका पपीता को सुबह शाम काला नमक डालकर खाने से बवासीर धीरे-धीरे ठीक हो जाता है। बवासीर में अगर मस्से निकल आये हो तो उसपर पपीते के दूध को सुबह शाम लगाने से वो सुखकर झड़ जायेंगे।

डेंगू

डेंगू बुखार पकड़ने पर पपीता बहुत ही लाभ दायक सिद्ध हुआ है। इसे पत्ती को पीसकर इसका रस निकाल ले। सुबह शाम एक-एक चम्मच रस पिलाने से प्लेटलेट काउंट में वृद्धि होती है। जिससे जल्दी ही डेंगू बुखार से निजात मिलता है।

पपीते PAPAYA से होने वाले नुकसान

पपीते से हो सकता है गर्भपात का खतरा-

गर्भवती महिलाओं को पपीता और अनानास खाने से बचना चाहिए. एक फल के रूप में पपीता में कई लाभ हैं लेकिन इसके बीज और जड़ गर्भपात का कारण बन सकता हैं. इसलिए गर्भावस्था के दौरान इस फल का सेवन ना करना ही एक बेहतर उपाय है.

अधिक पपीता खाने के नुकसान

ज्यादा मात्रा में पपीते के सेवन से आपके फूड पाइप को चोट पहुंच सकती है. एक दिन में एक से अधिक पपीते का सेवन करने से बचें.

जन्मदोष

पपीते में एक एंजाइम पापाइन होता है. यह बच्चे के लिए जहरीला साबि‍त हो सकता है और इससे बच्चे को जन्मदोष भी हो सकता है. इसलिए ब्रेस्टफीडिंग के दौरान और बच्चे के जन्म से लेकर बच्चा होने तक पपीता से दूर रहना ही एक बेहतर विकल्प होगा.

एलर्जिक रिएक्शन

कच्चा पपीता खाने से बचना चाहिए क्योंकि पपीते में उपस्थित लेक्टस नाम का एंजाइम एलर्जी की समस्या पैदा कर सकता है.

ब्लडप्रेशर रोगियों के लिए नुकसान दायक है पपीता

पपीता बीपी रोगियों के लिए नुकसान दायक साबित हो सकता है. इसलिए यदि आप बीपी को कंट्रोल करने के लिए दवा ले रहे हैं तो पपीता खाना आपके लिए खतरनाक हो सकता है.

पौरुष जीवन पर पड़ता है असर

पुरुषों में यह शुक्राणुओं की संख्या को कम कर सकता है और शुक्राणु की गतिशीलता को भी प्रभावित करता है.

और भी पढ़े……..

पीलिया JAUNDICE के लक्षण, कारण और बेहतरीन घरेलु उपाय

ब्लड प्रेशर कम होने पर अपनाएं ये आसान घरेलू उपाय

किडनी फेल या ख़राब होने के लक्षण, कारण और इससे बचाव

अपनाये ये 15 घरेलु नुस्खे पतले दस्त में तुरंत आराम

About Ram Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *