अफसन्तीन के गुण और उपयोग

1
2
Afasnthin
image source google

यह एक प्रकार का झाड़ीदार पौधा है। इसकी शाखाएँ सीधी और सरल होती है। पत्ते रेशम की तरह मुलायम रोयेंदार और हरे रंग के होते है। इसके फूल पीले रहते है। इसके बीज बारीक़-बारीक़ और गोलदाने की तरह होते है। इसके छाल कुछ ललाई लिए हुए बादामी रंग की रहती है। इसकी गंध अत्यन्त तीव्र , उम्र , अप्रिय और स्वाद अत्यन्त कड़वा होता है।

यह औपधि और इसकी कुछ जातियाँ भारतवर्ष में उत्पन्न होती है ; परन्तु आयुर्वेदीय ग्रन्थों में इसका कहीं उल्लेख नहीं पाया जाता। विशेपकर यह औपधि उत्तरी अफ्रीका , साइबेरिया , मंगोलिया तथा भारतवर्ष में हिमालय के 10000 से 12000 फ़ीट तक की ऊँचाई पर काश्मीर , तिब्बत , कुमाऊँ नेपाल इत्यादि प्रांतो में पैदा होती है।

  • अफसन्तीन के अन्य नाम
  • अफसन्तीन के गुण
  • अफसन्तीन के उपयोग

(और भीं पढ़ें – अतीस के फायदे और नुकसान )

अफसन्तीन के अन्य नाम

हिंदी – विलायती अफसन्तीन
संस्कृत – दमर
फ़ारसी – अफसन्तीन
लेटिन – अर्टेममिया अवार्सान्थयम

अफसन्तीन के गुण

यह औषधि पहले दर्जे में गर्म और दूसरे दर्जे में रुक्ष है। यह मस्तिष्क और सनायु-मंडल को अव्यवस्थित करनेवाला और सिर दर्द को पैदा करने वाला है। इसके अंदर संकोचक गुण भी है। यह यकृत को बल पहुँचाने वाला और कामला रोग में लाभदायक है। इसके क्वाथ का बफारा देने से कान का दर्द आराम होता है। पेट में कीड़ो को मरने की शक्ति भी इस औषधि में है।

Afasnthin
image source google

अफसन्तीन के उपयोग

  • अफसन्तीन का पौधा कडुआ , बलप्रद , सुगन्धित , आमाशय को बल देने वाला अग्निदीपक , ज्वर और कर्मियों को नष्ट करने वाला , रजःप्रवर्तक , दिमाग को उत्तेजना देने वाला व निद्राजनक है।
  • इस पौधे का अजीर्ण , केंचुए और सूती कीड़े को नष्ट करने के लिए उपयोग किया जाता है। इसके अतिरिक्त विषमज्वर , रजःकष्ट , मृगी , मस्तक की कमजोरी इत्यादि रोगों में भी इसके क्वाथ का उपयोग किया जाता है।
  • अफसन्तीन रूमी आधा सेर को आरक गुलाब 3 सेर में रात भर भिगों दें। सबेरे 2 सेर पानी और डालकर अर्क खींच लें। उस अर्क में आधा सेर को अर्क गुलाब 3 सेर में रात भिगो दे। सबेरे 2 सेर पानी और डालकर अर्क खींच ले। उस अर्क में आधा सेर अफसन्तीन रूमी , 3 सेर गुलाब जल और 2 सेर पानी डालकर दुबारा अर्क खींच लें। तोला की मात्रा में इस अर्क को 6 तोला अर्क सौंफ 2 तोला शर्बत कसूस के साथ पीने से यह यकृत की बीमारियों को दूर कर सूजन से होने वाले बुखार को मिटता है। यह अत्यन्त प्रभावशाली है।

और भीं पढ़ें …

Previous articleअपामार्ग के लाभ और हानि
Next articleआरार (हाऊबेर) के गुण

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here