अगर आप भी मुंहासों से परेशान हैं तो अपनाएं ये पांच आसान तरीके

3
5
pimple
image source google

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में खान-पान, प्रदूषण, मेकअप की वजह से चेहरा खराब होने लगता है। पिंपल्स और टैनिंग से चेहरे में निखार आता है। कुछ पिंपल्स होते हैं जो त्वचा के अंदर होते हैं और उनके बारे में आप कुछ नहीं कर सकते। लेकिन कुछ बदलाव करके आप अंधे पिंपल्स से छुटकारा पा सकते हैं। आज हम आपको बताएंगे कि ब्लाइंड एक्ने क्या होते हैं और उनका इलाज क्या है।

ब्लाइंड पिंपल्स 

ब्लाइंड पिंपल्स त्वचा के बाहर नहीं बल्कि अंदर होते हैं। इन फुंसियों के शुरू होने का खुला बिंदु कहीं नजर नहीं आता। ये बहुत सख्त होते हैं और इन पिंपल्स पर दबाने से भी दर्द होता है।

टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल आमतौर पर पिंपल्स के इलाज के लिए किया जाता है, क्योंकि इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण अंधे पिंपल्स को जड़ से खत्म कर सकते हैं। यह तेल विशेष रूप से माथे, गाल, ठुड्डी और होठों के ऊपर मुंहासों के इलाज में बहुत प्रभावी माना जाता है। इसे सीधे त्वचा पर नहीं लगाना चाहिए। सबसे पहले दो चम्मच टी ट्री ऑयल में एक चम्मच बादाम का तेल मिलाएं। इसके बाद इसे रूई से त्वचा के प्रभावित हिस्से पर लगाएं। अगले दिन सुबह इसे पानी से धो लें।

पिंपल पर बर्फ मलने से उसकी सूजन कम हो जाती है और वे धीरे-धीरे ठीक होने लगते हैं। अगर पिंपल निकलते ही इस नुस्खे को आजमाया जाए तो यह बहुत फायदेमंद होता है।

यह एक चमत्कारी मास्क है, जो मुंहासों को आसानी से दूर कर देता है। यह एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है, जो पिंपल पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मारता है। इसमें हाइड्रेटिंग गुण भी होते हैं, जो त्वचा को स्वस्थ बनाता है।

स्वस्थ और पौष्टिक आहार लें और जंक फूड का सेवन न करें।

तेज धूप से बचें और केमिकल युक्त त्वचा उत्पादों का उपयोग करें, केवल प्राकृतिक त्वचा देखभाल उत्पादों का उपयोग करें।

हमेशा हाइड्रेटेड रहें और रोजाना 8-12 गिलास पानी पिएं।

एलोवेरा एक ऐसा शक्तिशाली पदार्थ है जिसका इस्तेमाल त्वचा से जुड़ी लगभग हर समस्या में किया जाता है। एलोवेरा के पौधे से एक ताजा पत्ता काट लें। पत्ती को छीलकर एलोवेरा जेल को सीधे त्वचा के प्रभावित हिस्से पर लगाएं। इसे रात भर ऐसे ही छोड़ दें और सुबह इसे धो लें।

मुंहासे एक आम समस्या है और इससे छुटकारा पाने के लिए ज्यादातर लड़कियां टूथपेस्ट, नींबू आदि का इस्तेमाल करती हैं, जिससे त्वचा को नुकसान भी हो सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि मुंहासों से प्रभावित क्षेत्र को नहीं छूना चाहिए।

द बॉडी शॉप की शिखी अग्रवाल (हेड ट्रेनिंग) और लुमियर डर्मेटोलॉजी की डर्मेटोलॉजिस्ट किरण लोहिया ने मुंहासों से छुटकारा पाने के लिए ये टिप्स शेयर किए हैं:

1. कई बार आंतरिक असंतुलन खासकर हार्मोन की वजह से मुंहासे निकल आते हैं। यदि मुंहासे किसी आंतरिक समस्या के कारण होते हैं, तो रक्त परीक्षण और अल्ट्रासाउंड द्वारा इसका पता लगाया जा सकता है। मुंहासों से बचने के लिए संतुलित और स्वस्थ आहार जैसे फल, सब्जियां खाएं।

2. बहुत से लोग मानते हैं कि मुंहासे त्वचा के अत्यधिक तैलीयपन के कारण होते हैं और वे कठोर साबुन या स्क्रब का उपयोग करते हैं। सच तो यह है कि रूखी त्वचा मुंहासों को और खराब कर सकती है।

स्क्रब मुंहासों की सूजन और लालिमा की संभावना को बढ़ा सकते हैं और चेहरे में जलन पैदा कर सकते हैं।

3. मुँहासे ठीक होने में तीन से छह महीने लग सकते हैं। लोग अपना धैर्य खो देते हैं और नींबू, टूथपेस्ट या लहसुन का उपयोग करते हैं, जो मुंहासे वाली त्वचा को और नुकसान पहुंचा सकते हैं।

4. चेहरे को दिन में दो-तीन बार धोएं, अगर त्वचा में पर्याप्त मात्रा में मॉइश्चराइजर है तो इससे उसका तेल नहीं निकलता है, जिससे मुंहासे होने की संभावना नहीं रहती है।

5. अपनी त्वचा को नियमित रूप से मॉइस्चराइज़ करें, ताकि त्वचा में नमी बनी रहे, अगर बारिश हो रही है तो बिना पानी के मॉइस्चराइज़र का प्रयोग करें, ताकि नमी होने पर भी त्वचा से मॉइस्चराइज़र पूरी तरह से न हटे।

6. बैक्टीरिया को दूर रखने के लिए चेहरे पर कोई भी क्रीम आदि लगाते समय हाथ धोएं। प्रभावित क्षेत्र को लगातार छूने से बैक्टीरिया फैल सकता है, जिससे आगे मुंहासे हो सकते हैं।

7. चाय (चाय) के पेड़ का तेल जीवाणुरोधी और एंटिफंगल है और तैलीय त्वचा के लिए उपयुक्त है। मुंहासों से बचने के लिए इस तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है।

pimple
image source google

चेहरे पर मुहांसे के कारण 

चेहरे पर मुंहासे तब होते हैं जब आपकी त्वचा में तेल और मृत त्वचा जमा हो जाती है। वास्तव में, जब वसा ग्रंथियों से स्राव बंद हो जाता है, तो यह स्राव बालों के रोम के माध्यम से त्वचा को स्निग्ध रखने के लिए बाहर आता है। अगर यह स्राव रुक जाए तो यह त्वचा के नीचे फुंसी के रूप में जमा हो जाता है और सख्त होने पर मुंहासों का रूप ले लेता है।

तुलसी
तुलसी को चेहरे पर लगाने से न सिर्फ आपके मुंहासे दूर होंगे बल्कि आपको ग्लोइंग स्किन बेबी मिलेगी। आपको एक बड़ा तुलसी के पत्तों का पाउडर, एक चम्मच नीम के पत्तों का पाउडर और एक चम्मच हल्दी पाउडर को मिलाना है। इस पेस्ट में थोड़ा सा मुल्तानी मिट्टी का पाउडर मिलाकर चेहरे पर लगाएं। इस पेस्ट को आप हफ्ते में दो बार चेहरे पर लगा सकते हैं। इससे चेहरा साफ होने के साथ-साथ मुलायम भी बनेगा।

नीम
यह सर्वविदित है कि नीम के पत्तों में दोष, दोष, नाखून और मुंहासों को दूर करने की क्षमता होती है। इतना ही नहीं नीम के पत्ते खूबसूरती को बढ़ाने का भी काम करते हैं। नीम के पानी को चेहरे पर लगाने से त्वचा की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं। दरअसल नीम के पानी में एक एंटी-माइक्रोबियल फॉर्मूला होता है, जिसकी मदद से मुंहासे और उसके दाग-धब्बे के साथ-साथ सूखापन और झुर्रियां भी दूर होती हैं। इतना ही नहीं नीम के पानी को चेहरे पर लगाने से यह त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों से भी बचाता है। ऐसे में अगर आप बाहरी उत्पादों का इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं तो चेहरे पर नीम के पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा आप नीम के पत्तों का पेस्ट भी बनाकर चेहरे पर लगा सकते हैं।

लैवेंडर
लैवेंडर एक खूबसूरत फूल है, जो स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को दूर करने के साथ-साथ मुंहासों और फुंसियों जैसी समस्याओं को दूर करने में भी काफी कारगर है। ऐसे में अगर आप विटामिन सी पाउडर या संतरे के छिलके का पाउडर, शहद और लैवेंडर के तेल का पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाते हैं तो आप न सिर्फ मुंहासों और पिंपल्स से छुटकारा पा सकते हैं। विटामिन सी त्वचा के पीएच संतुलन को बनाए रखने में कारगर है। शहद में एंटीसेप्टिक, एंटीऑक्सीडेंट और जीवाणुरोधी गुण होते हैं, जबकि लैवेंडर का तेल त्वचा के नीचे से मुंहासों को निकलने से रोकता है। ऐसे में हफ्ते में दो बार इस पेस्ट का इस्तेमाल करने से आपको ग्लोइंग स्किन भी मिल सकती है।

pimple
image source google

धनिया
हर घर में इस्तेमाल होने वाला हरा धनिया देखने में बिल्कुल आम पत्तों जैसा ही लगता है। लेकिन ये एक्ने और पिंपल्स को दूर करने में बहुत उपयोगी होते हैं। धनिया एक जड़ी बूटी है, जिसमें प्रोटीन, वसा, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, खनिज जैसे तत्व होते हैं। इतना ही नहीं धनिया चेहरे की खूबसूरती के लिए भी काफी कारगर होता है। धनिया के रस में हल्दी मिलाकर चेहरे पर लगाएं। ऐसा हफ्ते में दो बार करें। इसके अलावा कच्चे दूध में धनिये का रस मिलाकर लगाने से सूखापन दूर होता है। यह एक बहुत अच्छा क्लींजर भी है।

मुसब्बर वेरा
चेहरे की खूबसूरती के लिए एलोवेरा सबसे कारगर ब्यूटी प्रोडक्ट है। एलोवेरा को आयुर्वेद में संजीवनी कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह अमीनो एसिड से भरपूर होता है और विटामिन 12 की मौजूदगी शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखती है। एलोवेरा त्वचा की देखभाल से लेकर बालों की सुंदरता और घाव भरने से लेकर कैंसर की रोकथाम तक हर समस्या से राहत दिलाता है। किसी भी समस्या के लिए प्रभावी घरेलू उपचार से बेहतर कुछ नहीं है।
इन पांच घरेलू नुस्खों की मदद से आप चेहरे पर दिखने वाले जिद्दी मुंहासों और पिंपल्स से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं। इतना ही नहीं ये सभी घरेलू नुस्खे हैं, जिससे इनका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है।

और भीं पढ़ें …
Safed daag ke karan aur ilaj | सफ़ेद दाग के कारण…
बाल झड़ने के उपाय
उडद के फायदे, नुकसान व गुण urad ke fayde nuksaan va…
कत्था के गुण और उपयोग व लाभ kattha ke gun aur…
अन्नानास के फायदे नुकसान व गुण annanas ke fayde nuksaan va… 
Previous articleकत्था के गुण और उपयोग व लाभ kattha ke gun aur upyog va labh
Next articleजामुन खाने के बाद कभी न करें इन तीन चीजों का सेवन, सेहत पर पड़ सकता है भारी