बच्चे दूध की उल्टी क्यों करते है कारण और उपाय

1
4
baby vomiting

बच्चा दूध पीने के बाद उल्टी क्यों करता है: नवजात शिशुओं की देखभाल कैसे करें? इसे मां से बेहतर कोई नहीं समझ सकता। एक मां अपने बच्चे से जुड़ी हर बात जानती है। नवजात शिशु, जो बोल भी नहीं सकता, लेकिन फिर भी मां ही होती है जो उसकी हर समस्या को समझती है और उसका इलाज करती है। लेकिन कभी-कभी एक सवाल उन्हें भी परेशान करता है कि दूध पीने के तुरंत बाद बच्चे को उल्टी क्यों हो जाती है?

वैसे तो यह समस्या शिशुओं में आम है, लेकिन फिर भी यह जानना और भी जरूरी हो जाता है कि छोटे बच्चों की बात कब हो। कई बार बच्चे डकार लेने के बाद भी उल्टी कर देते हैं। आज हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि बच्चे दूध पीने के बाद ही उल्टी क्यों करते हैं? baby vomiting

(और भीं पढ़ें –तिल के तेल के फायदे , गुण और नुकसान )

दूध पीने के तुरंत बाद बच्चे उल्टी क्यों करते हैं? – doodh pine ke turant baad bacche ulti kyu krte hai ?

 

baby vomiting

यह सर्वविदित है कि नवजात शिशुओं का पाचन तंत्र पूरी तरह से विकसित नहीं होता है, इसके अलावा बच्चों को निम्नलिखित कारणों से दूध पीने के तुरंत बाद उल्टी हो जाती है:

  • जब आप खाते या पीते हैं, तो भोजन अन्नप्रणाली से होकर गुजरता है और फिर भोजन पेट के एसिड के साथ मिलकर आंतों तक पहुंचता है जहां से पाचन शुरू होता है। अन्नप्रणाली और पेट के बीच एक वाल्व होता है जो भोजन को भोजन नली में वापस जाने से रोकता है। शिशुओं में, यह वाल्व पूरी तरह से विकसित नहीं होता है, जिसके कारण दूध पिलाया गया दूध पाचन तंत्र में प्रवेश करने से पहले वापस आ जाता है और वे उल्टी कर देते हैं, जिसे गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स कहा जाता है।
  • शिशुओं का पेट बहुत छोटा होता है, इसलिए वे ज्यादा दूध नहीं पी सकते। चार महीने तक बच्चे का पेट दूध की थोड़ी सी मात्रा ही पचा पाता है। लेकिन जैसे-जैसे बच्चा बढ़ता है, वाल्व भी विकसित हो जाता है ताकि भोजन वापस अन्नप्रणाली में न जाए और बच्चों को उल्टी की समस्या से छुटकारा मिल जाए।
    शिशुओं को उल्टी होने के कुछ अन्य कारण:
  • कभी-कभी बच्चे को बार-बार और ज्यादा दूध पिलाने के कारण उल्टी हो सकती है।
  • ऐसा तब भी होता है जब बच्चा रो रहा हो, खांसी हो या थक गया हो।
(और भीं पढ़ें –अलसी (तीसी) के फायदे, उपयोग और नुकसान )

उल्टी बच्चे के विकास को कैसे प्रभावित करती है? – ulti bacche ke vikas ko kaise prbhawit krti hai ?

अत्यधिक उल्टी होने से शिशु के स्वास्थ्य पर तब तक कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा जब तक वह ठीक से खा रहा है और उसका वजन भी पर्याप्त है। बच्चे को कितना दूध पिलाया गया है, इस पर निर्भर करते हुए उल्टी के जरिए दूध की थोड़ी सी मात्रा निकलना सामान्य बात है। यह बच्चे के विकास को प्रभावित नहीं करता है।

(और भीं पढ़ें –गूलर के फायदे , उपयोग व नुकसान )

अगर बच्चा दूध पीने के बाद उल्टी करता है, तो डॉक्टर से संपर्क करें। – agar baccha doodh ke baad ulti krta hai , to doctor se smprk kre 

  • बच्चे को गोद में सीधा रखकर दूध पिलाना चाहिए। खिलाने के बाद भी इसे लगभग 15 – 30 मिनट तक इसी अवस्था में रखना चाहिए। यह भोजन को पाचन तंत्र तक सुचारू रूप से पहुंचने में मदद करता है। इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बच्चे को खाना खाने के तुरंत बाद नहीं खेलना चाहिए।
  • लेटते समय बच्चे को बोतल से दूध नहीं पिलाना चाहिए। इस तरह से दूध पिलाने से शिशु में उल्टी की समस्या बढ़ सकती है।
  • इस बात का ध्यान रखें कि बच्चे को दूध पिलाते समय आसपास कोई शोर न हो, इससे बच्चे का ध्यान भटक सकता है।
  • बच्चे को ज्यादा दूध नहीं पिलाना चाहिए। बार-बार दूध पिलाना चाहिए लेकिन कम मात्रा में। ध्यान दें कि बच्चे को कितनी देर तक भूख लगे उसके अनुसार बच्चे को दूध पिलाएं।
  • बच्चे को तंग कपड़े नहीं पहनने चाहिए। डायपर को ज्यादा टाइट न पहनें।
(और भीं पढ़ें –अकरकरा (अकलकरा )के फ़ायदे | Akarkara(Anacyclus Pyrethrum) )

बच्चे में निम्नलिखित लक्षण दिखने पर डॉक्टर को दिखाना चाहिए:

  • अगर बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा है या बच्चे को सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।
    खून के साथ उल्टी होना।
  • ज्यादातर बच्चे फटा हुआ दूध उल्टी के जरिए बाहर निकालते हैं, लेकिन यह भी चिंता का विषय है कि अगर बच्चा
  • उल्टी नहीं करता है, लेकिन केवल दूध से बाहर आता है।
  • हरे या भूरे रंग की उल्टी होने पर बच्चे को डॉक्टर को दिखाना चाहिए।
(और भीं पढ़ें –बुखार ज्वर )

बच्चे दूध की उल्टी कब बंद करते हैं – bacche doodh ki ulti kb band krte hai 

शिशु आमतौर पर छह या सात महीने तक उल्टी करना बंद कर देते हैं, लेकिन कुछ बच्चे एक साल तक उल्टी करना बंद नहीं करते हैं। जैसे-जैसे बच्चा बढ़ता है, उसकी मांसपेशियां विकसित और मजबूत होती हैं ताकि भोजन पेट में रहे और उल्टी न हो।

छोटे बच्चों में खाने के तुरंत बाद उल्टी होने की समस्या आम है, लेकिन इसके अलावा अगर बच्चे में कोई असामान्य लक्षण दिखे तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

और भीं पढ़ें …
Previous articleकस्तूरी के गुण व उपयोग
Next articleचिरौंजी के फायदे , गुण व नुकसान

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here