Home / Disease / बवासीर PILES को करे जड़ से ख़त्म अपनाये ये नुस्खा…..

बवासीर PILES को करे जड़ से ख़त्म अपनाये ये नुस्खा…..

आजकल बदलते मनुष्य के जीवन शैली और सुख सुबिधाओ के साथ में विभिन्न प्रकार के रोग उत्पन्न हो रहे है। जिससे हमारे मानव जीवन पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। बहुत सारे रोंगो में से एक है – बवासीर (PILES)।
ये एक ऐसी बीमारी है जो हमारे ख़राब खान-पान, व्यायाम के लिए समय न मिल पाना, आलस, पेट से सम्बंधित बीमारिया, कब्ज, मोटापा आदि के कारण होती है।

बवासीर दो प्रकार होते है :-

-अंदरूनी और बाहरी।

इस रोग में गुदा द्वार के मुख में छोटे-छोटे मस्से निकल आते है और धीरे-धीरे ये मस्से फूलकर बड़े और कठोर हो जाते है जिससे मल त्याग करते समय गुदा में चुभन और जलन होती है जिससे पीड़ित व्यक्ति को असहाय पीड़ा का सामना करना पड़ता है। इसमें गुदा के आस-पास के नसों में सूजन, मल त्याग करते समय खून आना, अत्यधिक पीड़ा (दर्द), जलन आदि समस्याएं होती है। आईये जाने कुछ घरेलु नुस्खों के बारे जो इस बीमारी को जड़ से ख़त्म करे:-

bawaseer-ke-gharelu-nuskhe-ilaj
IMAGE SOURCE GOOGLE

 

बवासीर के घरेलू इलाज या उपचार

1. शुद्ध शाकाहारी भोजन

बवासीर से पीड़ित व्यक्ति को शुद्ध शाकाहारी भोजन करना चाहिए। तेल, मसाले, अचार, सिरका, मांस, आदि चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए जिससे व्यक्ति को कब्ज, गैस, या पेट सम्बंधित कोई भी बीमारी हो।

2. पानी पीना

पीड़ित व्यक्ति को सुबह खाली पेट भरपूर पानी पीना चाहिए और पपीते का सेवन करना चाहिए जिससे व्यक्ति का पेट साफ़ रखे और मल त्याग करते समय कठिनाई न हो।

3. मेथी के दाने

मेथी एक ऐसी चीज है जो स्वास्थ में बहुत ही लाभदायक है खासकर बवासीर में। मेथी को 5 ग्राम की मात्रा में लेकर आधे गिलास साफ़ पानी में शाम को सोते समय भिगो दे। सुबह दातुन या ब्रश करने के बाद खाली मेथी के दानो निकालकर चबाकर खा ले उसी पानी को पिए। इससे बवासीर को जड़ से आराम मिलता है।

4. हरड़ और मकोय

हरड़ जिसको हम आम भाषा में हर्रे कहते है। हरड़ के छिलके और मकोय को बराबर मात्रा में लेकर इसको पीसकर पाउडर बना ले। इसे एक-एक चम्मच सुबह-शाम खाना खाने के बाद एक गिलास गरम पानी के साथ ले तो बवासीर ख़त्म हो जाता है।

बवासीर के लिए आजमाया हुआ नुस्खा जो करे जड़ से ख़त्म

अब में आपको एक ऐसा दवा बारे में बताने जा रहा हूँ जो दोनों तरह के बवासीर के लिए काम करता है। ये एक आजमाया हुआ नुस्खा है।

खूनी बवासीर:- इसके लिए यूनानी दवा में आती है। जो ज्यादा-ज्यादा से ३-४ दिन के इस्तेमाल के बाद ही असर दिखना शुरू हो जाता है। इसके उपयोग करने से मल त्याग करते समय खून का आना बंद हो जाता है और पेट सम्बंधित बीमारिया भी न के बराबर हो जाती है।

बादी बवासीर:- इसके लिए यूनानी में दवा आती है। बादी प्रकार के बवासीर को ये जड़ से ख़त्म करती है।

बवासीर में मस्से और जलन से छुटकारा पाने के लिए स्मूथ क्रीम आती है जिसको मस्से पर लगाने से जलन, खुजली, चुभन आदि समाप्त हो जाता है और मल त्याग के मुख को मुलायम रखता है जिससे मल त्यागने के समय दर्द और कठिनाई नहीं होती है।

नोट:- इसमें बताये हुए यूनानी दवा को चिकित्सक के परामर्श के अनुसार ही ले।

और भी पढ़े….

loading...

About Ram Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *