कोरोना से लड़ना है , डरना नहीं

2
42
IMAGE SOURCE GOOGLE

कोरोना से लड़ना है , डरना नहीं

क्या करे अगर हल्का बुखार या खांसी आए ?

  1. अगर आपको हल्का बुखार या खासी महसूस होती है तो अपने तुरंत अपने परिवार के लोगो से थोड़ी दुरी बना ले और घर के अंदर भी मास्क पहनकर ही रहे।
  2. डॉक्टर से संपर्क करे और साथ ही इस स्थिति में आपको टेस्ट भी करवाना चाहिए क्योकि अगर कोरोना हो तो समय से उसका इलाज चल सके।
image source google

टेस्ट कैसे कराए ?

  1. कोवीड टेस्ट करवाने के लिए आप अपने नजदीकी सरकारी अस्पताल , डिस्पेंसरी या लैब में जा सकते है।
  2. इसके लिए आपको किसी तरह के डॉक्टर की प्रिस्क्रिप्शन की जरुरत नहीं है।
  3. यदि आप सरकारी अस्पताल या डिस्पेंसरी में जाते है तो यहा आपका टेस्ट बिलकुल मुफ्त किया जाता है।
  4. वही यदि आप प्राइवेट लैब में जाते है तो यहा टेस्ट के लिए आपको 800 रूपये चुकाना होगा।
image source google

कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर क्या करे ?

  1. अगर कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ जाती है तो घर आकर खुदको आइसोलेट करे ले।
  2. इसके बाद आपको पहले अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करे।
  3. यदि आपको लगता है की तबियत ज्यादा खराब है तो अस्पताल का रुख किया जा सकता है लेकिन यदि हल्के लक्षण है या लक्षण नहीं है तो होम आइसोलेशन में रह सकते है।
  4. होम आइसोलेशन में खुद को एक कमरे में आइसोलेट कर ले।
  5. यदि एक्स्ट्रा कमरा नहीं है तो उसी कमरे में एक स्पेस तैयार कर ले और अपने सोने , बैठने , खाने आदि के लिए उसी स्पेस का इस्तेमाल करे।
  6. सबसे जरुरी की घर पर मास्क पहनकर रखे और समय – समय पर हाथ धोते रहे।
  7. अपने बर्तन , तौलिया आदि सामान को अलग कर ले।
IMAGE SOURCE GOOGLE

होम आइसोलेशन में दवा – सलाह के तरीके ?

  1. होम आइसोलेशन में 4-5 की दवा दी जाती है।
  2. इसमें आपके लक्षण के आधार पर दवा तय की जाती है।
  3. अमूमन इसमें विटामिन सी , कैल्शियम , एंटीबायोटिक शामिल रहती है।
  4. चूंकि रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद डिस्ट्रिकट सर्विलांस टीम आपसे संपर्क करती है इसलिए दवाएं भी उनकी तरफ से दी जाती है।
  5. यदि उनकी दवाओ के बजाए अपने डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहते है और उनकी बताई दवाए खाना चाहते है तो वह भी आप कर सकते है।
  6. दिन में दो बार गर्म पानी से गरारे और दो बार स्टीम भी लेना चाहिए।
image source google

किस पैरामीटर के बिगड़ने पर क्या करे ?

  1. डॉक्टर्स के मुताबिक आपका ऑक्सीजन लेबल यदि 94 से निचे आता है तो आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए और उन्हें इस स्थिति के बारे में बताना चाहिए।
  2. यदि यह 94 से लगतार कम होता है तो यह चिंता का विषय हो सकता है।
  3. वही पल्स रेट 100 से ज्यादा होने पर भी एक बार डॉक्टर से कंसलट करना जरूरी है।
  4. साथ ही यदि आपका बॉडी टैंपरेचर 100 से ज्यादा होगा तो आपको सर्विलांस टीम या अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।
image source google

ऑक्सीजन बेड और आईसीयू बेड में अंतर ?

  1. यदि आपका ऑक्सीजन लेवल 94 से लगातार कम हो रहा है तो आपको ऑक्सीजन लगाया जाता है।
  2. ऑक्सीजन बेड पर आपके बीपी , पल्स रेट , ऑक्सीजन लेवल आदि को जांचने के लिए डॉक्टर को खुद आना पड़ता है।
  3. वही आईसीयू बेड पर इमरजेंसी या जिसकी वयक्ति की स्वास्थ्य स्थिति बेहद ख़राब होती है , उसे रखा जाता है।
  4. इस पर एक स्क्रीन होती है जिसमे आपका बीपी , पल्स रेट , ऑक्सीजन लेवल अपने आप मॉनिटर होता रहता है।
image source google

कैसे नजर रखे तबियत पर , क्या है वाइटल पैरामीटर ?

  1. डिस्ट्रीक्स सर्विलांस टीम आपको दवाओं के साथ पल्स ऑक्सीमीटर भी मुहैया करवाती है।
  2. इस ऑक्सीमीटर के जरिए आपको रोजाना दिन में दो बार अपना ऑक्सीजन लेवल और पल्स रेट चेक करना होता है।
  3. इसके अलावा आपको दिन में दो बार फीवर भी चेक करना होगा। इन सभी की जानकारी लेने के लिए डिस्ट्रिकट सर्विलांस टीम आपसे रोजाना संपर्क करेगी।
image source google

ऑक्सीजन के लिए कहा से संपर्क करे ?

  1. ऑक्सीजन की इस वक्त काफी दिक्कत है।
  2. अस्पतालो में भी कमी है लेकिन फिर भी आपका लेवल कम होता है तो आपको अभी ऑक्सीजन मिलने की बेस्ट संभावना अस्पतालों में ही है।
  3. ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी ख़रीदा जा सकता है।
  4. यदि आपको अस्पतालों में ऑक्सीजन बेड नहीं मिल रहा है तो आप निजी कंसंट्रेटर खरीद सकते है।
  5. इसके अलावा कई लोग इस वक्त ऑक्सीजन की समाज सेवा भी कर रहे है और जरुरतमंदो तक ऑक्सीजन पंहुचा रहे है।
  6. उम्मीद है की जल्द ही ऑक्सीजन की कमी दूर होगी।
image source google

और भी पढ़े…

कुछ छूने से कोरोना पॉजिटिव होने का चांस न के बराबर है

कोरोना को कैसे हराए योग के द्वारा

हार्ट अटैक का है अंदेशा तो आप जान ले ये बातें

कुछ आसान कदमों से त्वचा को शानदार बनाएं

फिजियोथेरेपी से कोरोना की रिकवरी

Previous articleवैक्सीनेशन के बाद संक्रमण का होता है हल्का असर
Next articleचाय के फायदे और नुकसान

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here