गोखरू के फायदे और नुकसान gokhru ke fayde aur nuksan

0
55
gokhur
image source google

पेशाब में रुकावट हो , बूंद-बूंद टपकता हो तो गोखरू पीसकर , एक चम्मच एक कप पानी में डालकर उबाले |आधा कप पानी रहने पर छानकर सुबह-शाम एक सप्ताह तक पिये | पेशाब साफ़ और खुलकर आयेगा |

 गोखरू के फायदे व उपयोग 

मूत्र प्रणाली के लिए एक कायाकल्प जड़ी बूटी के रूप में माना जाता है।

इसमें एंटिलिथियेटिक गुण होते हैं। जिसके कारण यह मूत्र के स्वस्थ प्रवाह को बनाए रखता है |

मूत्र पथ से संबंधित परेशानियों को कम करता है।

गोखरू के फायदे मूत्र प्रणाली के लिए

मूत्र प्रणाली को सशक्त कर उसे हर विकार से बचाता है। यह मूत्रवर्धक है और पेशाब में जलन व पेशाब करते हुए दर्द से मुक्ति दिलाता है।

यह मूत्र पथ के संक्रमण (urinary tract infections), मूत्राशयशोध (cystitis), मूत्र पथरी (urinary calculi), पथरी (kidney stones) आदि मूत्र प्रणाली विकारों में बहुत ही लाभदायक है।

यह मूत्राशय एवं गुर्दों को साफ कर सारें विकारों को दूर भगाता है |

तथा मूत्रबाधक का विनाश कर मूत्र के प्रवाह को नियमित करता है।

गोक्षुर पौरुष ग्रंथि के लिए भी लाभकारी है।

गोखरू अधिकांश मूत्र पथ विकारों के लिए प्रभावी उपचार है क्योंकि यह निम्न तरीके से काम करता है:

  • पेशाब के प्रवाह को बढ़ता है
  • मूत्र पथ की झिल्ली पर पीड़ानाशक प्रभाव डालता है
  • रक्तस्राव को रोकने का काम करता है
गोखरू का फायदा इरेक्टाइल डिसफंक्शन में 

सदियों से इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए प्रयोग की जाने वाली पारंपरिक दवाओं का हिस्सा रहा है।

जो इरेक्टाइल डिसफंक्शन, बांझपन, नपुंसकता और कम सेक्स ड्राइव के इलाज करने में मदद करता है।

गोखरू पुरुष के प्रजनन अंगों को स्वस्थ रखता है एवं शुक्राणु (Sperm) की गुणवत्ता, गतिशीलता व आयतन को बढ़ाता है।

यह इरेक्टाइल डिसफंक्शन के मामले में और कामेच्छा बढ़ाने के लिए भी प्रयोग किया जाता है।

यदि आप किसी भी यौन समस्या से परेशान है तो गोक्षरु का सेवन आपकी परेशानी में फायदेमंद साबित हो सकता है।

गोखरू के फायदे बांझपन व यौन विकारों से मुक्ति के लिए

एक प्रभावी कामोद्दीपक (Aphrodisiac) के रूप में कार्य करता है और कामेच्छा (सेक्स की इच्छा) के स्तर को बढ़ाता है।

यह वीर्य (semen) की मात्रा को बढ़ाने में और इसकी गुणवत्ता में सुधार लाने में भी बहुत फायदेमंद है।

यौन अंग में रक्त-प्रवाह को संचालित करता है।

यह शरीर में हार्मोन (Hormone) के प्राकृतिक उत्पादन को उत्तेजित करता है और बेहतर सेक्स जीवन को प्राप्त करने में मदद करता है।

इसके सेवन से इरेकटाइल डिसफंकशन (erectile dysfunction), पॉलीसिस्टिक डिम्बग्रंथि रोग (Polycystic Ovarian Disease) और बांझपन (infertility) जैसे यौन विकार भी ठीक हो जाते हैं।

गोक्षुर मनुष्यों में निम्नलिखित प्रकार से यौन स्वस्थ को बेहतर बनाए रखता है –

  • यह पुरुषों और महिलाओं दोनों में कामेच्छा को बढ़ाता है।
  • प्रजनन क्षमता और स्तनपान (lactation) को बढ़ाता है।
  • शुक्राणु उत्पादन बढ़ाता है और नपुंसकता का इलाज करता है।
  • यह ऊर्जा को बढ़ाने और आपके जीवन शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है।
gokhur
image source google
गठिया में आयुर्वेद उपचार है गोखरू

गोखरू (गोक्षुरा) जोड़ो में दर्द व सूजन को कम करता है अथवा उनकी गतिशीलता में सुधार लाता है।

गोक्षुर का उपयोग गठिया के इलाज के लिए किया जाता है।

यह इस बीमारी के लिए प्राकृतिक इलाज है। चूंकि इसमें मांसपेशी को आराम पहुंचने वाले गुण होते हैं।

इसका उपयोग जोड़ो के दर्द और मांसपेशी के दर्द को कम करने के लिए किया जाता है।

यह जोड़ों और मांसपेशियों में सूजन को कम करने के लिए भी जाना जाता है।

गठिया, घुटने और पीठ दर्द से आराम पाने के लिए गोखुरा फल का पाउडर, सूखा अदरक और पानी को बराबर मात्रा में उबाल लें फिर इसे उबलने के बाद रोज सुबह में 50 से 100 मिलीलीटर खाली पेट इसका सेवन करें।

शरीर सौष्ठव की खुराक है गोखरू

गोक्षुर एक प्राकृतिक उपचय (anabolic) है। जो मांसपेशियों को ताकत और मजबूती प्राप्त करने के लिए पूरक के रूप में प्रयोग किया जाता है। यह शरीर में ऊर्जा के उत्पादन को भी बढ़ाता है।

इसका उपयोग माशपेशियों के संचलन में सुधार और ऊर्जा प्रदान करने के लिए किया जाता है।

गोखरू का सेवन करने से शरीर सौष्ठव क्रिया में सहायता मिलती है।

यह मांसपेशियों की ताकत को बढ़ाता है और शरीर की संरचना में सुधार लाता है।

गोखरू का लाभ है गृध्रसी में
यह गोखरू में जोड़ो के दर्द और सूजन को कम करने वाले गुण होते हैं।
जिस कारण यह गृध्रसी की वजह से होने वाले दर्द व सूजन से राहत दिलाने में अत्यंत लाभकारी है।
यह मांसपेशियों में जकड़न को कम करता है और गतिशीलता में सुधार लता है।
गोखरू के फायदे साफ एवं चमकती त्वचा के लिए
त्वचा से सम्बंधित कई परेशानियों को ठीक करने के लिए उपयोगी है।
गोखरू त्वचा को साफ रखता है और त्वचा संबंधित विकारों को दूर रखता है।
यह त्वचा में जलन, सूजन व खुजली से राहत देता है और कीटाणु का विनाश करता है।
इसके साथ ही गोखरू की मदद से झुर्रियां जैसी बुढ़ापे के संकेत भी कम किए जा सकते हैं।

गोखरू से साइडइफेक्ट और क्या नुकसान हो सकता है 

अधिकांश अध्ययनों से पता चला है कि गोक्षुर का सेवन करना पूरी तरह से सुरक्षित हो सकता है। इससे किसी तरह के गंभीर दुष्प्रभाव के मामले बहुत ही दुर्लभ हो सकते हैं। हालांकि, इसके अधिक सेवन से निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • पेट खराब होना
  • पुरुषों में प्रोस्टेट का आकार बढ़ जाना
  • पेट में जलन की समस्या होना
  • त्वचा पर लाल चकत्ते जैसे एलर्जी की समस्या होना।

हर किसी को ऐसे साइड इफेक्ट हो ऐसा जरूरी नहीं है, यानि कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं, जो बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट हो रहा हे या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं, तो तुरन्त डॉक्टर से संपर्क करें। इसके अलावा ये जरूरी नहीं है कि हर किसी में एक जैसे ही साइफ इफेक्ट देखने को मिलें। हर किसी के शरीर के हिसाब से इसके रिएक्शन भी विभिन्न हो सकते हैं। इसके अलावा आप यदि इसका सेवनव कर रहें है, तो हमारी सलाहा

इसके अलावा, निम्न स्थितियों में भी आपको इसका सेवन करने से पहले सावधानी बरतनी चाहिए, जैसे-

प्रेग्नेंसी और स्तनपान के दौरान

यह गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए हानिकारक हो सकता है। यह भ्रूण के विकास में बाधा बन सकता है। वैसे तो गर्भवती महिलाओं

को किसी भी चीज के सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह लेने चाहिए। ऐसे अपने मन में किसी भी का सेवन उनके और बच्चे दोनों के लिए हानिकारक साबित हो सकता है।

gokhur
image source google
गोखरू को लेने की सही खुराक क्या है?

गोखरू का इस्तेमाल आप विभिन्न रूपों में कर सकते हैं। इसकी मात्रा आपके स्वास्थ्य स्थिति, उम्र और लिंग के आधार पर आपके डॉक्टर द्वारा निर्धारित की जा सकती है।

यह किन रूपों में उपलब्ध है?
  1. गोखरू का पाउडर
  2. अर्क गोखरू का
  3. गोखरू का काढ़ा

अगर आपका इससे जुड़ा किसी तरह का कोई सवाल है, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

और भी पढ़े …

नींबू के रस के फायदे

शरीर को बनाने में महत्वपूर्ण अश्वगंधा और शतावरी

हरड़ (हर्रे) क्या है : इसके लाभ और प्रयोग विस्तार से

जटामांसी के फायदे और नुकसान

अफीम के फायदे हिंदी में

Previous articleबर्फ के फायदे और नुकसान barf ke fayde aur nuksan
Next articleगर्म-ठंडे पानी के सेक के लाभ garm-thande pani ke sek se labh

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here