कस्तूरी के गुण व उपयोग

3
4
kasturi
image source google

कस्तूरी एक बहुत ही लोकप्रिय लेकिन दुर्लभ वस्तु है। दुर्लभ क्योंकि यह मृग से प्राप्त होता है न कि अधिकांश मृग से। यह कुछ नर मृगों के गुदा क्षेत्रों में स्थित ग्रंथि से प्राप्त होता है। इसकी जानकारी प्राचीन काल से है।यह एक महत्वपूर्ण रासायनिक पदार्थ के रूप में प्रयोग किया जाता है। आपको बता दें कि इसकी गिनती दुनिया के सबसे कीमती पशु उत्पादों में होती है। कस्तूरी का उपयोग इत्र और इसी तरह के कई अन्य सुगंधित पदार्थों के निर्माण में किया जाता है। आइए इस लेख के माध्यम से जानते हैं कस्तूरी के विभिन्न फायदे ताकि लोगों को भी इसकी जानकारी मिल सके।

(और भीं पढ़ें –Kali Mirch ke gun aur fayde | काली मिर्च के गुण… )

कस्तूरी क्या है?

कस्तूरी केवल वयस्क नर हिरण में पाई जाती है। कहा जाता है कि जब यह कस्तूरी मृग जवान हो जाता है तो उसमें कस्तूरी की भी गंध आती है, जिसे खोजने के लिए वह इधर से उधर भागता है, लेकिन कस्तूरी कभी नहीं मिलती क्योंकि यह बाहर की बजाय इसके अंदर मौजूद होती है। इसकी जानकारी उनके देश के लोगों को प्राचीन काल से थी। वहां न केवल ज्ञान था बल्कि उस समय इसका उपयोग भी किया जाता था। तब पूजा में सुगंधित पदार्थों के अतिरिक्त इसका प्रयोग किया जाता था। इसके अलावा, इसका उपयोग कई दवाओं के निर्माण में भी किया जाता था।

(और भीं पढ़ें –योगासन के प्रकार )

कस्तूरी के प्रकार 

अपने मूल स्थान को देखते हुए कस्तूरी को मुख्य रूप से तीन भागों में बांटा गया है।

  • नील रंग की नेपाली कस्तूरी कस्तूरी नेपाल के हिरण से प्राप्त की जाती है।
  • कामरूपी कस्तूरी, जो असम क्षेत्र के हिरणों से प्राप्त होती है, इसका रंग काला होता है और इसे कामरूपी कस्तूरी भी कहा जाता है।
  • भारत में कश्मीर के मृग से प्राप्त कस्तूरी कस्तूरी पीले रंग की होती है। जबकि कश्मीरी कस्तूरी का रंग इससे अलग है.

गुणात्मक दृष्टि से कामरूपी कस्तूरी इन तीन प्रकारों में सर्वश्रेष्ठ है, नेपाली कस्तूरी-माध्यम और कश्मीरी कस्तूरी सामान्य मानी जाती है।

(और भीं पढ़ें –सरसो के ऐसे फायदे जो आप नहीं जानते.. )

कस्तूरी की पहचान

कस्तूरी से तेज गंध आती है। पानी में घुली शुद्ध कस्तूरी को सूंघने से सुगंध आती है और अगर यह नकली है तो पानी में डालने के बाद इसमें कीचड़ या विकृत जैसी गंध आती है

शुद्ध कस्तूरी पानी में अघुलनशील होती है, यहां तक ​​कि पानी का रंग भी मैला नहीं होता है।

कस्तूरी को जलाओगे तो वह चमड़े की तरह चीटेगा।
यह चिट की आवाज से जलता है और चमड़े के सामान से भी गंदगी निकलती है।

(और भीं पढ़ें –Kala Dahtura ke fayde काला धतूरा के फायदे )

कस्तूरी के लाभ

कस्तूरी एक सुपरफूड है जिसका सेवन सेहत के लिए फायदेमंद होता है। इस सुपरफूड में कई तरह के पोषक तत्व और मिनरल्स मौजूद होते हैं। यह एक बहुत ही स्वस्थ समुद्री भोजन है जो शरीर को पर्याप्त मात्रा में पोषण प्रदान करता है और शरीर में रक्त परिसंचरण में भी सुधार करता है। सीप में कैल्शियम, सेलेनियम, प्रोटीन, आयरन और जिंक की मात्रा अधिक होती है, जो शरीर को विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं से बचाने और संक्रमण को रोकने में मदद करते हैं। इन सभी पोषक तत्वों के कारण, कस्तूरी एक स्वस्थ और स्वस्थ सुपरफूड माना जाता है।

कस्तूरी खाने के स्वास्थ्य लाभ क्या हैं?

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है
दिल को स्वस्थ रखता है
आँखों को स्वस्थ रखता है
हड्डियों के लिए फायदेमंद
यौन स्वास्थ्य में सुधार करता है

(और भीं पढ़ें –तिल के फायदे , उपयोग और नुकसान )

प्रतिरक्षा को बढ़ाता है:
कस्तूरी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करती है। इसमें विटामिन सी और ई की अच्छी मात्रा होती है जो इसे एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट बनाती है। यह रासायनिक प्रक्रिया के दौरान मुक्त कणों से लड़ने में भी मदद करता है।
दिल को स्वस्थ रखता है:

कस्तूरी का सेवन करने से हृदय स्वस्थ रहता है

मैग्नीशियम और पोटेशियम की उपस्थिति रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करती है। सीप हृदय की धमनियों की भी अच्छी तरह से देखभाल करता है और रक्त प्रवाह को भी बेहतर रखता है। इसके अलावा, यह किसी भी विदेशी कणों के मार्ग को प्रतिबंधित करता है जो धमनियों और नसों के माध्यम से रक्त के प्राकृतिक प्रवाह में बाधा डालते हैं।

आँखों को स्वस्थ रखता है:
कस्तूरी को अक्सर आंखों के लिए वरदान माना जाता है। इनमें जिंक का भरपूर स्रोत होता है जो रेटिना को स्वस्थ बनाता है। यह दृष्टि को मजबूत बनाकर आंखों की रोशनी में भी सुधार करता है।

(और भीं पढ़ें –तिल के तेल के फायदे , गुण और नुकसान )

हड्डियों के लिए फायदेमंद :
कैल्शियम के साथ आयरन, जिंक, कॉपर और अन्य खनिजों की उपस्थिति हड्डियों को मजबूत और स्वस्थ बनाने में मदद करती है। खरबूजे में सेलेनियम नामक खनिज मौजूद होता है जो हड्डियों को पोषण देने और गठिया के दर्द की संभावना को कम करने में मदद करता है।

यौन स्वास्थ्य में सुधार:
खरबूजे में मौजूद जिंक की मात्रा टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन में मदद करती है। यह एक हार्मोन है जो शरीर में यौन गतिविधियों को नियंत्रित करता है। यह अंतरंगता के दौरान हार्मोन के निर्माण में पुरुषों और महिलाओं दोनों की मदद करता है।

खरबूजे का सेवन कई तरह से स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है क्योंकि इसमें कई तरह के खनिज और विटामिन मौजूद होते हैं।

और भीं पढ़ें …
कमल के गुण व उपयोग
कपूर के फायदे , उपयोग , गुण और नुकसान
केले के फूल और जड़ के फायदे , लाभ और नुकसान
माँ के स्तनों में दूध कम होने का क्या कारण है?…
डिलीवरी के बाद मां का दूध नहीं होने के क्या कारण…
खसरा रोग के कारण , लक्षण और उपचार 
Previous articleकमल के गुण व उपयोग
Next articleबच्चे दूध की उल्टी क्यों करते है कारण और उपाय

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here