Home / Uncategorized / केला खाने के फायदे और नुकसान

केला खाने के फायदे और नुकसान

केला (BANANA) एक ऐसा फल है जो हर जगह आसानी से मिल जाता है, केला हर मौसम मे बाज़ार मे आसानी से मिल जाता है। केला हमारे शरीर को बहुत से ऐसे पोषक तत्व देता है, जिससे दिल और आंखो की रक्षा होती है।

केला कच्चा खाओ या पका हुआ यह फायदा ही करता है, लोगो मे यह भ्रम है की केला खाने से वज़न बढ़ जाएगा, लेकिन केला एक ऐसा फल है जो वज़न बढाने के साथ साथ घटाने मे भी काम आता है। केला खाने के इतने फायदे है की हम सोच भी नहीं सकते।कहा जाता है की एक सेब खाने से डॉक्टर दूर भगाता है तो यही बात केला के साथ भी होती है अगर हम एक केला रोज़ खाते है तो हम जीवन भर स्वस्थ रहते है। केला खाने के इतने फायदे है जब आप इसे अपने रोज़ के खाने मे लेने लगेंगे तो केला के प्रति आपका नज़रिया (Point of view) ही बदल जाएगा ।

kela-ke-fayde-aur-nuksan
image source google

ऐसे तो हम सभी जानते है की किसी भी चीज़ को खाने के फायदे भी है और नुकसान भी है, लेकिन किसी भी चीज़ को ज़रूरत से ज्यादा खा लेंगे तो वह फायदा कम और नुकसान ज्यादा करेगी। केला खाने से तो बहुत फायदे है में वह आपको बताने जा रही हूँ । केला पोषक तत्वो से भरा हुआ है, केले मे थाइमिन,फॉलिक नियसिन,विटामिन A,B, पाया जाता है। केला खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और यह हमे संक्रमन से बचाता है। केले मे पाये जानेवाले पोटेशियम के कारण ब्लड सर्कुलेसन ठीक रहता है, जिससे ब्लड प्रेशर ठीक रहता है, इसके सेवन से कोलेस्ट्रॉल भी कंट्रोल मे रहता है।

ये भी पढ़े..शरीर को बनाने में महत्वपूर्ण अश्वगंधा और शतावरी

केला खाने के महत्वपूर्ण फायदे KELA KHANE KE MAHATWPURN FAYDE

  • यदि महिलाओं को रक्त प्रवाह अधिक होता है तो पके केले को दूध में मसल कर कुछ दिनों तक खाने से लाभ होता है।
  • बार-बार पेशाब आने की समस्या हो तो चार तोला केले के रस में दो तोला घी मिलाकर पीने से फायदा होता है।
  • यदि शरीर का कोई हिस्सा जल जाए तो केले के गूदे को मसल कर जले हुए स्थान पर बांधे। इससे जलन दूर होकर आराम पहुंचता है।
  • पेचिश रोग में थोड़े से दही में केला मिलाकर सेवन करने से फायदा होता है।
  • संग्रहणी रोग होने पर पके केले के साथ इमली तथा नमक मिलाकर सेवन करें।
  • दाद होने पर केले के गूदे को नींबू के रस में पीसकर पेस्ट बनाकर लगाएं।
  • पेट में जलन होने पर दही में चीनी और पका केला मिलाकर खाएं। इससे पेट संबंधी अन्य रोग भी दूर होते हैं।
  • अल्सर के रोगियों के लिये कच्चे केले का सेवन रामबाण औषधि है।
  • केला खून में वृध्दि करके शरीर की ताकत को बढ़ाने में सहायक है। यदि प्रतिदिन केला खाकर दूध पिया जाए तो कुछ ही दिनों में व्यक्ति तंदुरुस्त हो जाता है।
  • यदि चोट लग जाने पर खून का बहना न रुके तो उस जगह पर केले के डंठल का रस लगाने से लाभ होता है।
  • केला छोटे बच्चों के लिये उत्तम व पौष्टिक आहार है। इसे मसल कर या दूध में फेंटकर खिलाने से लाभ मिलता है।
  • केले और दूध की खीर खाने या प्रातः सायं दो केले घी के साथ खाने या दो केले भोजन के साथ घंटे बाद खाकर ऊपर से एक कप दूध में दो चम्मच शहद धोलकर लगातार कुछ दिन पीने से प्रदर रोग ठीक हो जाता है।
  • केले का शर्बत बनाकर पीने से सूखी खांसी, पुरानी खांसी और दमे के कारण चलने वाली खांसी में 2-2 चम्मच सुबह-शाम सेवन करने से लाभ होता है।
  • एक पका केला एक चम्मच घी के साथ 4-5 बूंद शहद मिलाकर सुबह-शाम आठ दिन तक रोजाना खाने से प्रदर और धातु रोग में लाभ होता है।
  • पके केले को घी के साथ खाने से पित्त रोग शीघ्र शान्त होता है।
  • मुंह में छाले हो जाने पर गाय के दूध के दही के साथ केला खाने से लाभ होता है।
  • एक पका केला मीठे दूध के साथ आठ दिन तक तक लगातार खाने से नकसीर में लाभ होता है।
  • दो केले एक तोला शहद में मिलाकर खाने से सीने के दर्द में लाभ होता है।
  • दो पके केले खाकर, एक पाव गर्म दूध एक माह तक सेवन करने से दुबलापन दूर होकर शरीर स्वस्थ बनता है।
  • प्रतिदिन भोजन के बाद एक केला खाने से मांसपेशियां मजबूत बनती है व ताकत देता है।
  • प्रातः तीन केले खाकर, दूध में शक्कर व इलायची मिलाकर नित्य पीते रहने से रक्त की कमी दूर होती है।
  • यदि बाल गिरते हों तो केले के गूदे में नींबू का रस मिलाकर सिर में लगाने से बाल झड़ना रूक जाता है।
  • जलने या चोट लगने पर केले का छिलका लगाने से लाभ होता है।
  • पके हुए केले को आंवले रस तथा शक्कर मिलाकर खाने बार-बार पेशाब आने की शिकायत होती है।
  • बच्चे को दस्त लग जाने पर पके केले को कटोरी में रख कर चम्मच से घोट कर मक्खन जैसा बना लें और जरा सी मिश्री पीस कर मिला कर बच्चे को दिन में दो तीन बार खिलाएं। लाभ होगा, कमजोरी नहीं आएगी और बच्चे के शरीर में पानी की कमी नहीं हो पाएगी। ध्यान रहे कि केला जितनी बार खिलाना हो, उसे उसी समय बनाएं। ढक कर रखा गया या काट कर रखा केला न खिलाएं। वह हानिकारक हो सकता है। मिट्टी खाने के आदी बच्चों को इसका गूदा खूब फेंट कर जरा सा शहद मिला कर आधा आधा चम्मच खिलाना उपयोगी है। पर ध्यान रहे की शाम के बाद केला ना दे ।
  • कोई भी चीज मात्रा से अधिक खाना पीना हानिकारक है। इसी तरह केला भी ज्यादा खाने से पेट पर भारी पड़ेगा, शरीर शिथिल होगा, आलस्य आएगा। कभी ज्यादा खा लिया जाए तो एक छोटी इलायची चबाना लाभकारी है।
  • कफ प्रकृति वालों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए। हमेशा पका केला ही खाएं।
  • केले में मैग्नीशियम की काफी मात्रा होती है जिससे शरीर की धमनियों में खून पतला रहने के कारण खून का बहाव सही रहता है। इसके अलावा पूर्ण मात्रा में मैग्नीशियम लेने से कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है।
  • कच्चे केले को दूध में मिलाकर लगाने से त्वचा निखर जाती है और चेहरे पर भी चमक आ जाती है।
  • रोज सुबह एक केला और एक गिलास दूध पीने से वजन कंट्रोल में रहता है और बार- बार भूख भी नहीं लगती।
  • गर्भावस्था में महिलाओं के लिए केला बहुत अच्छा होता है क्योंकि यह विटामिन से भरपूर होता है।
  • गले की सुजन में लाभकारी है।
  • जी-मिचलाने पर तो पका केला कटोरी में फेंट कर एक चम्मच मिश्री या चीनी और एक छोटी इलायची पीस कर मिला कर खाने से राहत मिलेगी।
  • केले के तने के सफेद भाग के रस का नियमित सेवन डायबिटीज की बीमारी को धीरे-धीरे खत्म कर देता है।
  • खाना खाने के बाद केला खाने से भोजन आसानी से पच जाता है।

ये भी पढ़े..गिरते-झड़ते बालो के हर्बल और आयुर्वेदिक इलाज

केला खाने से नुकसान KELA KHANE SE NUKSAN

केला अगर हम बहुत ज़्यादा खाते है तो वह फायदा की जगह नुकसानदायक होता है,एक मध्यम आकार के केले मे 105 केलोरी होती है।

  • केले का अगर हम बहुत ज़्यादा सेवन करते है तो हमारा मोटापा घटने के बजाय बढ्ने लगता है,केले मे एमिनो एसिड टायरोसिनहै जिस कारण बहुत से लोगो को माइग्रेन हो जाता है, लेकिन इस कारण से आप केला खाना छोरे नहीं बल्कि अपने डॉक्टर से समझ कर आप इसे भोजन मे शामिल कर सकते है।
  • कच्चा केला भी अगर हम ज़्यादा खा लेते है तो कब्ज़ की शिकायत हो जाती है।
  • इसके खाने से एलर्जि भी हो सकती है,जिसको हमेशा कफ की शिकायत रहती है उन्हे भी डॉक्टर से समझ कर ही केला खाना चाहिए, बदलते मौसम मे भी केला खाते समय हमे ध्यान रखना चाहिए।केले के ज़्यादा खाने से हाथ-पाँव भी सुन्न हो सकते है।
  • किसी भी चीज़ को लिमिट मे खान फायदेमंद ही है,अब आप अपना नज़रिया बदले और इसे रोज़ के खाने मे शामिल करे और अपने शरीर को तन्द्रूस्त रखे यह बहुत सस्ता और गुणी फल है।

ये भी पढ़े…….

सरसो के ऐसे फायदे जो आप नहीं जानते..
Kababchini ke Fayde aur Nuksan
एंटीबायोटिक | Antibiotic
अकरकरा (अकलकरा )के फ़ायदे | Akarkara(Anacyclus Pyrethrum)
शरीर को बनाने में महत्वपूर्ण अश्वगंधा और शतावरी
भूख बढ़ाने के घरेलु उपचार
अफीम के फायदे हिंदी में
Sukhi khansi सूखी खांसी के लिए घरेलू इलाज

loading...

About Ram Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *