Home / Disease / Safed daag ke karan aur ilaj | सफ़ेद दाग के कारण और इलाज

Safed daag ke karan aur ilaj | सफ़ेद दाग के कारण और इलाज

Safed daag ke karan aur ilaj | सफ़ेद दाग के कारण और इलाज

सफ़ेद दाग Safed Daag होना आजकल एक आम समस्या बन गयी है। भारत में लगभग दो प्रतिशत लोग इससे पीड़ित है। इसे अंग्रेजी में ल्यूकोडर्मा(Leucoderma) कहा जाता है। ये त्वचा का एक रोग है जो कि हाथ, पैर, मुंह, होंठ और शरीर के किसी भी अंग में हो सकते है। ये शुरुवाती में छोटे से सफ़ेद रंग के त्वचा पर होते है। धीरे-धीरे ये बढ़ने लगते है और ये बढ़ते ही जाते है। सफ़ेद दाग छोटे बच्चो में भी हो सकता है। लोंगो की अवधारणा है कि ये कुष्ठ रोग होता है लेकिन न ये कुष्ठ रोग है और न ही किसी प्रकार त्वचा कैंसर और कोढ़। आइए जानते है कारण:-

safed-dag-ke-gharelu-upchar
image source google

सफ़ेद दाग होने के कारण

  • आनुवंशिकता।
  • पीलिया या लिवर की समस्या।
  • जलना या चोट लगना।
  • नमक और तेल की ज्यादा मात्रा में सेवन करना।
  • सड़े-गले हुए मांस खाना।
  • भोजन में अनियमितता।
  • मछली और दूध, निम्बू और घी प्रकृति के विरुद्ध सेवन करना
  • आधुनिक चिकित्सको के अनुसार शरीर के त्वचा में मौजूद मेलोनिक नामक रंगीन पदार्थ को बनाने वाली पेशियाँ होती है। जो किसी कारणवश कमजोर पड़ जाती है जिससे त्वचा सफ़ेद पड़ने लगते है।
  • सफ़ेद दाग प्राणघातक नहीं होता है। लेकिन चेहरे या होंठ पर निकलने के बाद सुंदरता को मिटा देता है।
  • पेट में कीड़े की उपस्थिति या पेट में गैस बनना।
  • फंगल संक्रमण होने से भी त्वचा सफ़ेद(white) होने लगती है।
  • स्त्रियों के खराब क्वालिटी की चिपकाने वाली बिंदी का लगातार इस्तेमाल करती हैं। उनको केमिकल ल्यूकोडर्मा की वजह से सफेद दाग होने का खतरा रहता है। खराब क्वॉलिटी की बिंदी में चिपकाने के लिए घटिया केमिकल से बना अधेसिव इस्तमाल किया जाता है जिससे safed daag होता है, इसलिए अच्छी क्वॉलिटी की बिंदी ही लगाएं।

सफ़ेद दाग के इलाज

सरसो का तेल और हल्दी

Safed-daag-ke-karan-ilaj
image source google

दो चम्मच सरसो का तेल और एक चम्मच हल्दी। इन दोनों का लेप बना ले, सुबह और शाम के धूप में इस लेप को सफ़ेद दाग पर लगाकर पंद्रह मिनट्स तक धूप में सेंके। उसके बाद धुल ले। इस प्रयोग को 1 महीना नित्य करने से लाभ मिलता है।

नीम

Safed-daag-ke-karan-aur-ilaj
image source google

नीम के पत्तो को नित्य 10-10 की मात्रा में सुबह खाली पेट सेवन करने से फायदा मिलता है। या नीम के पत्तो का रस निकालकर दो चम्मच और शहद एक चम्मच मिलाकर सुबह लेने से safed daag में बहुत लाभ मिलता है।

सेब के सिरके

Safed-daag-ke-karan-aur-ilaj
image source google

सफ़ेद दाग में सेब के सिरके में थोड़ा सा पानी मिलाकर लगाने से फायदा होता है और एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब को सिरके को पिए इससे रोगी को लाभ होता है।

बावची या बकुची

Safed-daag-ke-karan-aur-ilaj
image source google

अदरक के जूस में बावची या बकुची के बीजो को भिगो कर रखे। तीन दिन तक अदरक के रस को बदलते रहे, तीसरे दिन बावची के बीजो को निकालकर हाथ में रख कर मसल ले। धूप में रखकर इसे सुखाकर, पीसकर चूर्ण बना ले। इसे प्रतिदिन एक ग्राम की मात्रा में एक गिलास दूध के साथ लगातार एक महीने के सेवन करने से safed daag में फायदा मिलता है।

ताम्बे(कॉपर) के बर्तन

Safed-daag-ke-karan-aur-ilaj
image source google

रात को सोते समय ताम्बे(कॉपर) के बर्तन में पानी भरकर रख दे। सुबह के समय तक कॉपर के आयन्स पानी में घुल जाते है जो की मेलोनिन प्रोडक्शन बढ़ाने में सहायता करता है। इस पानी को सुबह खाली पेट पीने से Safed daag के रोगी को बहुत लाभ मिलता है।

हल्दी और नीम

Safed-daag-ke-karan-aur-ilaj
image source google

हल्दी एक चम्मच और नीम के पत्तो का रस एक चम्मच लेकर इसका पेस्ट बना ले। सुबह के समय लगाकर धूप सेकने से safed daag धीरे-धीरे ख़त्म होने लगता है, रोगी को लाभ मिलता है।

लाल मिटटी

Safed-daag-ke-karan-aur-ilaj
image source google

लाल मिटटी में कॉपर की मात्रा अधिक पायी जाती है जिससे मेलनिन की मात्रा बढ़ती है। एक चम्मच लाल मिटटी और एक चम्मच अदरक मिलाकर पेस्ट बना ले। इस लेप को सफ़ेद दाग की जगह दो मिनट्स मालिश करके छोड़ दे। ऐसा एक महीने तक करने से Safed daag धीरे-धीरे भरने लगता है।

और भी पढ़े

Akalber ke fayde | अकलबेर के फायदे
Kamar Dard kaise door kare कमर दर्द कैसे दूर करे

loading...

About Ram Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *